top of page

वो खोया बचपन

Updated: Mar 29, 2021


25026_431709966900506_88875218_n

वो खोया बचपन दिख जाता है कभी उन नन्हें क़दमों में जो स्कूल जाने से हिचकिचाते हैं।


वो खोया बचपन दिख जाता हैं कभी दीवारों पर खिंची आड़ी -तिरछी लकीरों में जो नन्हें-कोमल हाथ अपने पीछे छोड़ जाते हैं।


वो खोया बचपन दिख जाता है कभी हंसी के उन फुहारों में जो अनायास ही गूँज उठते हैं।


वो खोया बचपन दिख जाता है कभी टूटे पेड़ के उन सूखी टहनियों में जो झूले बनने को स्वयं ही झुक जाते हैं।


वो खोया बचपन दिख जाता है कभी कागज़ के उन छोटे-छोटे नावों में जो बारिश के पानी में तैरते नज़र आते हैं।


वो खोया बचपन दिख जाता है कभी अपने ही अन्दर, सहमा, संकुचाया हुआ सा जिसकी मासूमियत को हम सालों से भूलाये बैठे हैं॥

1 view0 comments

Recent Posts

See All

Comentarios


Post: Blog2_Post
bottom of page